व्यापार और वाणी के ग्रह बुध ग्रह को कैसे करे प्रसन्न

Share Now...

वैदिक ज्योतिष में बुध ग्रह को बुद्धि ,तर्क ,विवेक , गणित और वाणी का कारक माना गया है ।

बुध ग्रह व्यापार के देवता माने जाते है,

ग्रहों में बुध को राजकुमार का पद प्राप्त है ,

बुध ग्रह पृथ्वी तत्व , नपुंसक, उत्तर दिशा का स्वामी, श्यामवर्ण वाला है।

मिथुन और कन्या राशि के स्वामी बुध होते है।

बुध ग्रह व्यवसाय, चिकित्सा, ज्योतिष, कानून, शिल्प, चतुर्थ एवं दशम भाव का स्वामी है।

कुंडली मे बुध ग्रह कमजोर होने पर बहन ,बुआ से संबंध कमजोर होते है ।

यह जिस ग्रह के साथ बैठते है उसी के स्वभाव का बनकर शुभ या अशुभ फल देने वाला बन जाता है। यदि यह अकेला हो तो शुभ फल देता है।

ज्योतिष में बुध ग्रह के देवता गणेश जी को माना गया है ।

बुध  ग्रह  कमजोर होने के प्रमुख ज्योतिषी लक्षण :-

1.कुंडली मे बुध ग्रह मीन राशि मे होने पर नीच का प्रभाव देते है एवं कमजोर अवस्था मे होते है ।

2. कुंडली मे बुध ग्रह कमजोर होने पर दांतो से संबंधित रोग होते है ।

3. बुध ग्रह कुंडली मे कमजोर अवस्था मे होने पर वाणी संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ता है , बोलने में हकलाना या ठीक तरह से बोल नही पाना ।

3. बुध ग्रह कुंडली मे कमजोर होने पर बुद्धिभ्रम की स्थिति होती है ।

4. सूंघने की शक्ति कम होती है जब कुंडली मे बुध ग्रह कमजोर होते है ।

5. बुध ग्रह कमजोर होने पर व्यापार में सफलता नही मिलती है ।

6. गुंगापन का विचार भी बुध ग्रह के कमजोर होने पर किया जाता है ।

बुध से संबंधित वस्तु:-

पन्ना,  स्वर्ण,  घी,  पीले कपड़े,  नीले कपड़े,  कांसा,  हरे मूंग,  हांथी दांत।

Astroscienceco-REMEDIES ( उपाय )

बुध ग्रह को मजबूत करने के उपाय :-

1 बुधवार को गाय को हरी घांस खिलाए।

2 बुधवार को किन्नरों को हरे वस्त्र, हरी चुड़ी आदि का दान दे।

3 कम से कम 11 बुधवार गणपति जी के मंदिर मे गणेश जी  को 11 गांठ की दूर्वा की माला बनाकर चढ़ाए।

4 बुधवार या प्रतिदिन मंत्र “ॐ गं गणपतये नमः” की 1 माला जाप करे।

5 प्रतिदिन या बुधवार को “श्री गणेश अथर्वशीर्ष” का पाठ करे।

6 हरे वस्त्र स्वयं पहनने से परहेज करें। हरे वस्त्रो का दान करे।

7 सोने के आभूषण पहने।

8 दुर्गा माता की पूजा प्रतिदिन करे।

9 हरे मूँग का दान किसी मंदिर या जरूरतमंद को करे।

10 कनिष्ठा उंगली में पन्ना धारण करे ( कुंडली विश्लेषण के पश्चात )

11 गाय को हरा चारा या हरी सब्जी हर बुधवार को खिलाएं एवं साबुत हरे मूंग का दान करे ।

12. बुधवार के दिन गणेश के मंदिर में जा कर गणेश जी को सिंदूर चढ़ाए ।

13. बुध ग्रह कमजोर होने पर कनिष्ठिका उंगली में पन्ना  रत्न धारण करना चाहिए  । ( रत्न कुंडली विश्लेषण के बाद ही धारण करे )

14. बुध ग्रह के बुरे प्रभाव को कम करने के लिए बुधवार को शिवलिंग पर हरे मूंग की दाल चढ़ना चाहिए ।

15. बुध  ग्रह  मंत्र :- ऊं ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:

मानसिक अशांति होने के कारण और उनके उपाय

NOTE :-
बुध  ग्रह  के  बुरे  प्रभाव  को  कम  करने  और  बुध  से  जुड़ी  समस्याओं  से  छुटकारा  पाने  के  लिए ,

किसी  भी उपाय  को  संकल्प  ले  कर  कम  से  कम   90  दिनों  तक  जरूर  करना  चाहिए ।

सेनापति मंगल ग्रह के कमजोर होने के कारण एवं उपाय:- Mangal Grah Ke Kamjor Hone Ke karan Aur Upay
• संकल्प की विधि:-

किसी भी उपाय को शुक्ल पक्ष में शुरू करे उस दिवस प्रातःकाल सूर्योदय के 1 घंटे के भीतर दाहिने हाथ मे जल और पूर्ण अक्षत ले।

   अपना नाम, गोत्र, वार, तिथि,दिशा, स्थान के देवता का नाम, ईष्ट देवता का नाम लेकर ,

   बोले मै इस उपाय को (अपना उपाय बोले) इस कार्य हेतु (अपना कार्य बोले) कर रहा हूँ।

    जिसका पूर्ण फल आप स्वयं को प्राप्त हो ऐसा बोलकर अहम करिष्यामि बोलते हुए जल जमीन पर छोड़ दे।

 

इस  अद्भुत   ज्ञान  और  महा-उपाय   को   दुसरो   को   भी   शेयर  करे ।
आपका  एक  शेयर  इस  जानकारी  और उपाय  का  अधिक  से  अधिक  लोगो  लाभ  पहुँचा   सकता   है ।

Share Now...

5 Comments

    • अभिषेक जी, आपके दिए गए जन्म विवरण के अनुसार आपकी
      मिथुन लग्न की कुंडली बनती है , जिसके राशि स्वामी बुध दशम भाव मे नीच राशि के विराजमान है परंतु शुक्र उच्च राशि के होने और बुध शुक्र की युति से नीचराजभंग योग बनता है ।

      सप्तम भाव ( विवाह भाव ) के स्वामी गुरु चतुर्थ भाव मे विराजमान है, जिस पर केतु की नवमी दृस्टि होने से सप्तमेश कमजोर होता है एवं नवमांश कुंडली मे सप्तमेश पर शनि की दसवीं दृस्टि होने से विवाह में विलंब और मानसिक अशांति  हो रही है आपको ।

      विवाह योग उचित योग February 2021 के बाद बनेंगे ।

      आपको गुरु , शनि और चंद्रमा के उपाय करना चाहिए ।

                                 धन्यवाद

      astroscienceco.com

1 Trackback / Pingback

  1. Shree Ganesha ji Ki Kahani | गणेश जी की जन्म-कथा

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*