ज्योतिष कैसे काम करता है ? भाग -3…

Share Now...

  • ज्योतिष कैसे काम करता है , इसकी परिभाषा लिखना मनुष्य के लिए संभव नही है क्योंकि ज्योतिष एक समुंद्र है और ज्योतिष ज्ञान का कोई अंत नही है |
  • फिर भी हम ज्योतिष कैसे काम करता है इस पर अपना तर्क रखते है |
  • ज्योतिष विज्ञान ही नही बल्कि महाविज्ञान है |
  • सौरमंडल में 7 ग्रह , 2 छाया ग्रह , 27 नक्षत्र , 12 राशि से मुख्यतः ज्योतिष अथवा ज्योति देने वाला अद्भुत विज्ञान है |
  • ज्योतिष जनमानस का भाग्य नही बदल सकता है परंतु जनमानस को भाग्य बदलने का एवं भाग्यशाली बनने का रास्ता ज्योतिष बता सकता है|
  • ज्योतिष विज्ञान जादू-टोना , अंधविश्वास , चमत्कार के रूप में ना कार्य करके भौतिक विज्ञान एवं व्यवहारिक विज्ञान के रूप में कार्य करता है। जिसमे प्रयोगो और नियमो के आधार पर मनुष्य के जीवन को संचालित किया जाता है।
  • ज्योतिष मानव जीवन को एक मार्गदर्शन प्रदान करता है। देश , काल , परिस्थितियों के आधार पर ज्योतिष में परिवर्तन संभव है।
  • धरती पर जन्म लेते ही मनुष्य जन्म के साथ ही ज्योतिष से जुड़ जाता है , मनुष्य का जन्म विवरण उसे ज्योतिष से जोड़ देता है।
  • जन्म के साथ ही मनुष्य अपने अच्छे और बुरे कर्म अपने साथ ले कर आता है, जिसे ज्योतिष ज्ञान के आधार पर ज्योतिष मनुष्य का भूतकाल , वर्तमान , भविष्य का फलादेश करते है।
  • “कुछ जनमानस का तर्क होता है की हम ज्योतिषी के पास गए परंतु हमे कुछ फर्क नही हुआ “
  • Astro science इस तर्क पर अपनी राय देना चाहता है , कोई ज्योतिषी किसी व्यक्ति का भविष्य नही बदल सकता है जब तक की वह व्यक्ति स्वयं ना चाहे , ज्योतिषी बस मनुष्य को उसका बिता हुआ कल , आज और आने वाला कल बता सकता है एवं बुरे समय में दुःख को कम करने के लिए कुछ विशेष उपाय बता सकता है ,
  • उपाय करके मनुष्य अपने जीवन को सुखी एवं बेहतर बना सकता है
  • बिना उचित उपाय एवं बिना अच्छे कर्म के बेहतर भविष्य की कल्पना नही कर सकते है ,
  • जिस तरह बरसात के मौसम में पानी आने पर हम पानी को रोक नही सकते है परंतु पानी से सुरक्षा के लिए हम छतरी का उपयोग करते है
  • उसी तरह हम हमारे द्वारा किए गए बुरे कर्म का फल को ख़त्म नही कर सकते है परंतु ज्योतिषी उपाय से उन्हें बहुत हद तक कम कर सकते है|

Share Now...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*